Whatsapp New Updates : यूज़र्स लॉगिन अब पहले से ज्यादा सेफ, एंड्रॉयड और iOS पर करेगा काम, जाने पूरी डिटेल्स

Raipur : Whatsapp New Updates अपने यूज़र्स के लिए जबरदस्त फीचर्स ला रहा है। जिसके साथ अब यूज़र्स को ज्यादा सेफ्टी मिलेगी। इस अपडेट में यूज़र्स के अकाउंट की पूरी लॉगिन प्रोसेस को सेफ करने के लिए डबल वेरिफिकेशन कोड फीचर पर काम कर रहा है। इससे वॉट्सऐप अकाउंट में लॉग इन करते समय सेफ्टी और ज्यादा पुख्ता हो जाएगी। यह नया फीचर एंड्रॉयड और iOS दोनों यूजर्स के लिए होगा।

वॉट्सऐप Whatsapp के फीचर को ट्रैक करने वाली वेबसाइट वेबीटाइंफो (Wabetainfo) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी इस फीचर की मदद से एक ही वॉट्सऐप Whatsapp अकाउंट में एक से ज्यादा डिवाइस में लॉग-इन करने से पहले वेरिफाई करना होगा। फीचर रोल आउट होने के बाद जब आग किसी अन्य डिवाइस में लॉगिन करने की कोशिश करेंगे तो आपको पुराने डिवाइस पर एक 6 अंकों का कोड आएगा। इस कोड को आपको अपने नए डिवाइस में डालना होगा। कोड के मैच होने के बाद ही आप नए़ डिवाइस में वॉट्सऐप को लॉगिन कर पाएंगे।

Read More  : Whatsapp new updates : ऐप पर डाउनलोड होगा DL और PAN, बस करना होगा यह छोटा सा काम

 

वेरिफिकेशन प्रोसेस को मजबूत करने के लिए 6 अंकों का कोड दिया जायेगा। जब भी आप नए फोन से वॉट्सऐप Whatsapp लॉग इन करते हैं, तो चैट को लोड और बैकअप करने के लिए रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर 6 अंकों का ऑटोमैटिक जनरेटेड कोड भेजा जाता है। व्हाट्सअप पर कुछ समस्य पहले फर्जी लॉगिन करने को लेकर मामले सामने आये थे, जिस वजह से मियूज़स को रोकने के लिए यह कदम उठाया गया है। इस डबल वेरिफिकेशन कोड का मकसद वॉट्सऐप लॉगिन प्रोसेस को मजबूत करना और अकाउंट की पर्सनल जानकारी और डेटा के दुरुपयोग को रोकना है।

Read More  : Whatsapp यूज़र्स हो जाए सावधान ! इन डिवाइसेस में अब नहीं करेगा काम

 

Whatsapp New Updates – ऐसे मिलेगी जानकारी 

रिपोर्ट के मुताबिक, इस फीचर रोलआउट होने के बाद जब आप किसी नए डिवाइस में पुराने वॉट्सऐप को लॉग इन करने की कोशिश करेंगे तो आपके पास एक नोटिफिकेशन आएगा। जसिमें लिखा हुआ होगा की यह वॉट्सऐप Whatsapp अकाउंट पहले से ही किसी डिवाइस में लॉग-इन किया हुआ है।

Read More  : Whatsapp New Updates : यूज़र्स चुपके से छोड़ सकेंगे ग्रुप, जल्द किया जायेगा रोलआउट

 

जब आप व्हाट्सएप Whatsapp New Updates पर लॉगिन करेंगे तो पुराने डिवाइस में भेजे गए कोड को नए डिवाइस पर डालना होगा इस तरह लोगों को पता चल जाएगा कि कोई उनके खाते में लॉग इन करने का प्रयास कर रहा है। वे प्रक्रिया को पूरा करने के लिए दूसरा वेरिफिकेशन कोड शेयर नहीं करेंगे।

 

Leave a Comment