शिक्षा व्यवस्था को लेकर सीएम भूपेश से मिले आदर्श शिक्षक कल्याण संघ के टीचर

बीजापुर, गुप्तेश्वर जोशी । इन दिनों सीएम भूपेश बघेल प्रदेशव्यापी कार्यक्रम भेंट- मुलाकात में अपनी महत्वाकांक्षी योजनाओं के सफल क्रियान्वयन को देखने के लिये आम जनता एवं कर्मचारियों से रूबरू हो रहे हैं। बीजापुर जिले के कार्यक्रम में भी आदर्श शिक्षक कल्याण संघ के पदाधिकारी पुरुषोत्तम चंद्रकार आदि नारायण पुजारी, तरुण सेमल व बुधराम कोरसा ने बीजापुर के विद्यालय, कार्यरत शिक्षक व अध्ययनरत् विद्यार्थियों को मिलने वाली शासन की महत्वपूर्ण योजनाओं के क्रियान्वयन के संबंध में मुख्यमंत्री भेंट कर अवगत कराया गया।

Read More : छत्तीसगढ़ राज्य की न्यूज वेबसाइटों को इम्पैनलमेंट करने ऑनलाईन आवेदन आमंत्रित, इस तारीख तक जमा कर सकते हैं आवेदन

आदर्श शिक्षक कल्याण संघ के संस्थापक व अध्यक्ष पुरुषोत्तम चंद्रकार ने स्वामी आत्मानन्द उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय का स्वागत करते हुये कहा कि बीजापुर जिले के अधिकांश विद्यार्थी सी. बी.एस. ई पाठ्यक्रम को दूसरे राज्यों व छत्तीसगढ़ के अन्य शहरों में जाकर अध्ययन कर रहे हैं, जिससे इन विद्यार्थियों के पालक अतिरिक्त आर्थिक बोझ उठा रहे हैं। इसलिए बीजापुर के प्रत्येक विकास खण्ड में एक-एक और स्वामी आत्मानन्द अंग्रेजी माध्यम विद्यालय संचालित की जाये जिसमें केवल सीबीएसई पाठ्यक्रम हो।

Read More : निजी स्कूलों के शिक्षकों का हो रहा भारी शोषण भी शिक्षा के गिरते स्तर का एक प्रमुख कारण : डॉ त्रिपाठी

भूपेश बघेल के शासनकाल में शाला अनुदान राशि की बढोत्तरी पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इस राशि से अधिकांश संस्था प्रमुखों ने अपने विद्यालय के शौचालयों में रनिंग वाटर व टाइल्स लगवाये हैं, स्कूलों की रंगाई- पोताई और पौधारोपण का कार्य किये हैं इसके लिये मुख्यमंत्री को समस्त शिक्षकों की ओर से धन्यवाद ज्ञापित कर इस वर्ष की समस्या से अवगत कराये कि पी एफ एम एस के कारण जिले के अधिकांश स्कूल के संस्था प्रमुखों ने शाला अनुदान राशि का आहरण नही कर पाये इसलिए संघ के पदाधिकारियों ने इस राशि को पुनः स्कूल के खाते में डालने के लिये निवेदन किया ।

Read More :  राजनांदगांव पुलिस द्वारा शिक्षकों को सुरक्षा, अधिकार एवं ‘‘निजात’’ अभियान की दी गई जानकारी

बीजापुर जिले की सबसे बड़ी समस्या पोटा केबिन में अध्ययनरत विद्यार्थियों के संबंध में मुख्यमंत्री को जानकारी दिये कि जिले में संचालित पोटा केबिनों में स्थाई शिक्षकों के पदों की स्वीकृति नही होने के कारण अतिशेष शिक्षकों से अध्यापन कार्य कराया जा रहा है ।इन पोटा केबिनों में स्थाई शिक्षकों के पद स्वीकृत होने से विद्यार्थी व शिक्षकों का भविष्य सुदृढ़ होगा।

Leave a Comment