यासीन मलिक से 20 साल छोटी है उनकी पत्नी, खूबसूरती के सामने फेल है बॉलीवूड की बड़ी-बड़ी एक्ट्रेस…

दिल्ली। Terror Funding Case में दोषी पाए गए यासीन मलिक (Yasin Malik) को एनआइए की विशेष अदालत (NIA Special Court) ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। साथ ही 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। यासीन द्वारा अपने खिलाफ लगाए गए सभी आरोप स्वीकार करने के बाद एनआइए के स्पेशल कोर्ट ने उसे दोषी ठहराया। हुर्रियत नेता और प्रतिबंधित संगठन जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) के प्रमुख को 2017 के आतंकी फंडिंग मामले में अदालत ने उन्हें दोषी ठहराया था।

READ MORE : Bollywood की लाज बचाने में सफल हुए कार्तिक आर्यन, वीकेंड में कमाए इतने करोड़, पार करेगी 100 करोड़ का आंकड़ा!

Yasin Malik की निजी जिंदगी की बात करे तो उनकी वाइफ उनसे उम्र में 20 साल छोटी है। यासीन मलिक की पत्नी मुशाल हुसैन मलिक (Mushal Hussain Malik) के सामने बॉलीवूड की बड़ी-बड़ी एक्ट्रेस की खूबसूरती फीकी नजर आती है। यासीन मलिक का जन्म 1966 में हुआ था और उनकी पत्नी मुशाल हुसैन का जन्म 1986 में हुआ। मुशाल और यासीन की मुलाकात 2005 में हुई थी।

एक रैली में भाषण देने के बाद जब यासीन बाहर निकला तो उससे मिलने मुशाल आई। मुशाल ने यासीन का autograph लिया। एक इंटरव्यू में मुशाल ने इसका जिक्र भी किया था। कहा था, ‘मुझे यासीन का भाषण पसंद आया था। मैंने उनसे हाथ मिलाया और उनका ऑटोग्राफ लिया।’ 2005 के बाद मुशाल और यासीन के बीच बातचीत का सिलसिला तेज हो गया।

READ MORE : Bollywood Gossip : Madhuri Dixit ने Sanjay Dutt से कहा – मत खोले प्यार के पुराने राज, पढ़ें पूरी खबर

पाकिस्तानी चैनल को दिए एक इंटरव्यू में मुशाल ने बताया था कि एक दिन यासीन ने मुझसे कहा, ‘मुझे पाकिस्तान बहुत पसंद है और खासकर तुम बहुत पसंद हो।’ फ़िलहाल यासीन मालिक की पूरी जिंदगी जेल में कटने वाली है। दिल्ली के NIA कोर्ट ने प्रतिबंधित संगठन जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) के प्रमुख यासीन मलिक को UAPA के तहत 19 मई को दोषी करार दिया था।

READ MORE : Bollywood News : शादी करने जा रही सोनाक्षी सिन्हा ! सोशल मिडिया में फोटो शेयर कर बताया, जिंदगी में आ चूका है एक खास आदमी

मलिक ने अदालत में कहा था कि वह खुद के खिलाफ लगाए आरोपों का विरोध नहीं करता, इन आरोपों में यूएपीए की धारा 16 (आतंकवादी कृत्य), 17 (आतंकवादी कृत्यों के लिए फंड जुटाना), 18 (आतंकवादी कृत्य की साजिश) और धारा 20 (आतंकवादी गिरोह या संगठन का सदस्य होना) और भारतीय दंड संहिता की धारा 120-बी (आपराधिक साजिश) व 124-ए (राजद्रोह) शामिल हैं।

Leave a Comment