केदारनाथ यात्रा पर लगा ब्रेक, दस हजार यात्री फंसे, प्रशासन ने किया अलर्ट…

Kedarnath Yatra : मौसम विभाग की भविष्यवाणी के बाद केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) सहित सम्पूर्ण रुद्रप्रयाग जनपद में सुबह से ही बारिश जारी है। बता दें कि मौसम विभाग ने दो दिनों तक भारी बारिश (Heavy Rain) का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग की भविष्यवाणी के बाद केदारनाथ धाम सहित सम्पूर्ण रुद्रप्रयाग जनपद में बारिश हो रही है।

READ MORE : Kedarnath Dham: केदारनाथ मंदिर में VIP गेट से प्रवेश पर लगी रोक, यात्रियों को नियंत्रित करने के लिए लगाई गई बैरिकेडिंग

आज सुबह केदारनाथ में बारिश होने के बाद प्रशासन ने केदारनाथ यात्रा रोक दी है। आज सोनप्रयाग (Sonprayag) से सुबह 8 बजे तक 8530 यात्रियों को केदारनाथ (Kedarnath Yatra) के लिए रवाना किया गया था, लेकिन इसके बाद केदारघाटी व केदारनाथ में तेज बारिश के चलते यात्रा रोक दी गई। इस दौरान रुद्रप्रयाग से गुप्तकाशी तक जगह-जगह पांच हजार यात्रियों को रोक दिया गया। वहीं, सोनप्रयाग में 2000 और गौरीकुंड में 3200 यात्रियों को रोका गया।

READ MORE : Kedarnath Dham : खुल गए बाबा केदारनाथ धाम के कपाट, उमड़ रही भक्तों की भीड़, अगर नहीं जा पाए तो यहाँ करे दर्शंन

खराब मौसम ( Heavy Rain ) के चलते केदारनाथ से नीचे के लिए किसी यात्री को जाने की अनुमति नहीं दी गई। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी (District Disaster Management Officer) नंदन सिंह रजवार ने बताया कि यात्रियों की सुरक्षा को लेकर सोनप्रयाग से केदारनाथ तक सुरक्षा बलों को मुस्तैद कर दिया गया है। इधर, पुलिस उपाधीक्षक प्रबोध कुमार घिल्डियाल ने बताया कि बारिश के चलते सुरक्षा को ध्यान में रखकर यात्रा को रोका गया। मौसम विभाग के अलर्ट को ध्यान में रखकर निर्णय लिया जा रहा है।

READ MORE : शुभ-मुहूर्त में खुले केदारनाथ धाम के कपाट, केवल तीर्थ पुरोहित हुए पूजा में शामिल

प्रशासन ने किया अलर्ट
प्रशासन ने मौसम विभाग के पूर्वानुमान (Heavy Rain) को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने यात्रियों से जहां पर मौजूद हैं, वहीं पर रहने की अपील की है। पुलिस उपाधीक्षक पीके घिल्डियाल ने यात्रियों से कहा कि जिन यात्रियों ने कमरे बुक नहीं कराए हैं, उन्हें रुद्रप्रयाग से अगस्त्यमुनि के बीच होटल, लॉज, रेस्टोरेंट, धर्मशाला में भेजा जा रहा है। साथ ही जिन यात्रियों के कमरे बुक करा रखे हैं, उन्हें अगले आदेश तक अपने कमरों में ही रुकने के लिए कहा गया है।

Leave a Comment